sushma's view

Just another weblog

63 Posts

373 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 761 postid : 525

दामिनी ........अलविदा

Posted On: 30 Dec, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

यू तो आँखे नम है
तेरे सिवा आज न कोई गम है,
मैं हू जिन्दा ,मगर ये जिंदगी तो नहीं
मरती हू मैं ,
लेकिन तू मरी नहीं……………

हम में भर कर एक चिंगारी
तूने लौ जला दी है ,
हम लड़ेंगे ये बात,
हमने हर और फेला दी है.

आज आखिकार दामिनी चली गयीं और सच माने तो उसने अपनी जिंदगी का सबसे बड़ा काम तो कर ही दिया था. पूरे राष्ट्र को जगाने का काम ………क्या इससे पहले रेप नहीं हुए बलात्कार नहीं हुए या फिर औरतो के साथ कार्य स्थल ,पब्लिक प्लेस पर वारदाते नहीं हुई.मसला आज भी ज्यो का त्यों है.देखने वाली बात यहीं है की आज आम जन जागा है. हम अब शायद सोच सकते है कि कल सब कृष्ण बनेगे, वही कृष्ण जिसने अपनी बहन द्रोपदी के चीर हरण में उनकी लाज बचाई थी…..असल में मुद्दा यहाँ यह भी है की हमें क्या पड़ी है सोच से निकलना.आज हर माँ ,बहन बेटी और लड़की असुरक्षित है क्यों? ऐसा क्या है समाज में जो वो अपनों के बीच रहकर भी असुरक्षित है ,महसूस कर रही है.यहाँ दामिनी तो मिसाल है एक ऐसे सुप्त जंग की ,जो इस दुनिया को कुछ नए रंग देकर जाएगी.हमें कुछ वक्त इंतजार करना होगा.पर बात सिर्फ दामिनी की ही नहीं है यहाँ बात है कई दामिनियों की .जो बेवक्त अपना होसला खोती और इस दुनिया में एक अपनी अनोखी जंग लडती नजर आती है.वो जंग क्या है जब वो अपनी माँ को बताती है तब ओहदा ,पैसा ,रुतबा, छोटे लोग,लड़की जात,निम्न स्तर,मज़बूरी ,कम बोलो,विनम्र रहो जैसे कई उपमानो के साथ परिस्तिथि आ जाती है जो उसे जंग को लड़ने पर मजबूर कर देती है.उस जंग में हार या जीत का कोई मतलब नहीं रहता क्योकि जीत पर जहा वो अपनी शांति खो देती है कभी कभी अपनी आमदनी का जरिया खो देती है वही दूसरी और हारने पर अपनी जिंदगी मौत से पहले ही खो देती है .तो क्या इसके लिए आवाज उठाने का कोई रास्ता रखना उचित है या नहीं………………10आज हमें कानून के एक अध्याय की जरुरत है क्योकि हम आवाज उठाना चाहते है .कुछ ऐसा होना चाहिए जिससे ऐसा कर्म करने से पहले ये दरिन्दे डर जाएँ कुछ करने से पहले इनके सामने इनकी सजा इनके आँखों के सामने दोड जाएँ .8पर क्या इन दरिंदो के आँखों में ये डर आपको नजर आता है ……नहीं ना; क्योकि दस साल ,पञ्च साल सिर्फ सजा …………….बल्कि सजा भी नहीं ये तो मज़ा है ……..इतने साल में तो लोग इनका चेहरा भी भूल जाते है .और फिर मज़े से ये अपनी जिन्दगी शुरू कर लेते है…………………………………………………लेकिन वो लड़की वो लड़की कहा है ? वो कैसी है? वो जब तक जिन्दा रहेगी जीती रहेगी एक ऐसी लड़की के रूप में जिन्दा रहेगी जो अपनी इज्ज़त खो चुकी है .वो अपने बूते अगर सम्मान भी जुटा ले तो भी वो एक रेप की हुई लड़की ही रहेगी .9तो क्या हम बदलना चाहते है ? तो ये शुरुवात हमें अपने आप से ही करनी होगी .हमें अपना हर वो नजरिया बदलना होगा. जो लड़की के कपडे ,जिस्म से होकर गुजरता है.अगर हम सभी अपने नजर को संभाल ले क्या अगली पीड़ी को को ये समझाना आसान नहीं रहेगा की किसी की भी बहन तुम्हारी भी बहन समान है.हम ये समझ पायें की भगवान ने लड़की को सिर्फ भोग्य बनाकर नहीं भेजा है.हमें ये कोशिश करनी होगी की हम अपने मन में शुद्धता ,समानता भर सके जो आज के समाज में बहुत जरुरी है. और इन सबके बाद उस कानून का भी हम इंतजार करेंगे जो लड़की के हित के लिए चीख चीख कर बोलेगा की ये न्याय उसका हक है ,जन्मसिद्ध अधिकार है .अब कोई दामिनी इस तरह बस में ,कोई गीतिका इस तरह मज़बूरी में और कई बालिकाएं लड़कियां यू सडको पर न फेकी जाएँगी ,ना ही आत्महत्या करेंगी.

तो क्या हम संकल्प लेंगे.

7

और अगर हम आज संकल्प नहीं लेते तो इन सब बेजरुरी चीजों के लिए क्यों रुकते है अपना टाइम ख़राब करते है.आगे बड़ जाइये.अभी तो और तमाशे बाकी है.
आपको नया वर्ष मुबारक नहीं हो.आपके घर भी गीतिका दामिनी जन्म ले …………..और तब तक जन्म ले जब तक आप चेते नहीं ,जगे नहीं ,आपके मन के अन्दर वो सब बाहर आकर फूटे नहीं .तब तक ,तब तक आपको नया वर्ष मुबारक नहीं हो.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Santlal Karun के द्वारा
December 31, 2012

दुखद घटना और जन-पीड़ा की गंभीरता पर पठनीय आलेख; हार्दिक साधुवाद एवं सद्भावनाएँ ! नव वर्ष की मंगल कामनाएँ ! प

    sushma के द्वारा
    December 31, 2012

    नव वर्ष की आपको भी मंगल कामनाएं .पर इस दुखद घटना से हमें सीख जरुर लेनी होगी.इस लेख को लिखने का केवल यहीं मकसद है कि जो समझदार है ,वो जरुर समझे.धन्यवाद संतलाल करुण जी.

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
December 31, 2012

सच कहें तो हमें इस वर्ष को नए साल के जश्न के रूप मनाना ही नहीं चाहिए ! यही सच्ची श्रद्धांजली होगी दामिनी के लिए ! आलेख की पंक्ति-पंक्ति हमें सोचने को विवश करती है ! हार्दिक आभार सुषमा जी !

    sushma के द्वारा
    December 31, 2012

    धन्यवाद आचार्य विजय गुंजन जी .

sumitgarima के द्वारा
December 30, 2012

दुखद घटना पर आक्रोशित और भावुकता से परिपूर्ण यह आपकी अभिव्यक्ति समाज को आइना दिखा रही है | उम्मीद है की हृदय पर वज्रपात करने वाली इस अमानवीय कृत्य के बाद भी कम से कम हमारा समाज चिर निद्रा से जाग कर सुधि लेगा !

    sushma के द्वारा
    December 31, 2012

    इस दुखद घटना से हमें सीख जरुर लेनी होगा .धन्यवाद सुमितगरिमा जी.


topic of the week



latest from jagran